150 परिवार में हर घर से एक व्यक्ति विदेश..

डूंगरपुर। जीवन में हर कोई एक बार विदेश जाने की चाह रखता है। विदेश में रोजगार मिलना भी कोई आसान काम नहीं है। पहली बार विदेश जाने वाले युवाओ को रोजगार के लिए कई दिन तक भटकना पड़ता है। डूंगरपुर जिले में एक गांव ऐसा भी है जहां 150 परिवारों में हर घर से एक व्यक्ति रोजगार की चाह में विदेश रहता है।

जिला मुख्यालय से सात किमी की दूरी पर स्थित मोकरवाड़ा गांव के युवा कतर, कुवैत, इजरायल, बहरीन, इराक आदि देशों में कार्य कर रहे हैं। इस गांव से खाड़ी देश कुवैत में 130, इजरायल में पांच, कतर में चार व अन्य देशों में 11 लोग रोजगार से जुड़े हुए है। सबसे पहले विदेश में रोजगार के लिए वर्ष 1987 में धूलजी पटेल कुवैत गए थे। इसके बाद एक के बाद संख्या बढ़ती गई। वहीं से अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक मोकरवाड़ा गाव के इन युवाओं के हुनर व कलाकारी की कद्र हो रही है। इनके द्वारा किए जा रहे होम डेकोरेशन को पसंद किया जा रहा है।

गांव का प्राथमिक स्कूल

यह पढ़े : एक हजार वर्ष पुरानी मोडी माता की प्रतिमा।  https://bit.ly/2zMpMj5

यह यहां पर डेकोरेशन, इलेक्ट्रीशियन, चालक, ठेकेदारी, दुकान संचालक, टाइल्स फिटिंग, प्लम्बर, कंप्यूटर से जुड़ा कार्य करते हैं। गांव के रामलाल पटेल ने सबसे ज्यादा लोगो को रोजगार दिया है। यह कुवैत में अच्छी पहचान के कारण डूंगरपुर को पहचान दिला रहे हैं। वही इजराइल में दिनेश पाटीदार ने लोगो को ले जाने का कार्य किया है। युवाओं ने गांव के प्राथमिक स्कूल से अध्ययन करने के बाद आगे उच्च शिक्षा व कौशल शिक्षा प्राप्त की।

Related posts

One Thought to “150 परिवार में हर घर से एक व्यक्ति विदेश..”

  1. मेहुल साद

    जूठी खबर है ये। मेरा पड़ोसी गाव है ये।

Leave a Comment